HomeNation Newsपटना नगर निगम घोटाला: IAS सेंथिल कुमार पर चलेगा मनीलॉन्ड्रिंग का केस,...

पटना नगर निगम घोटाला: IAS सेंथिल कुमार पर चलेगा मनीलॉन्ड्रिंग का केस, ED ने जब्‍त की ₹2.60 करोड़ की संपत्ति

- Advertisement -
- Advertisement -

पटना. नगर निगम में हुए 8.76 करोड़ रुपये के घोटाला मामले में तत्कालीन निगम जीवनकाल।क्त के. सेंथिल कुमार समेत और लोगों के खिलाफ निगरानी अन्वेषण ब्यूरो पहले ही चार्जशीट दायर कर चुकी थी. अब ED ने भी उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. अच्छा।्तन आदेशालय ने आईएएस सेंथिल कुमार के विरुद्ध मनीलॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है. इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी गई है. IAS के. सेंथिल कुमार पर भ्रष्टाचार के जरिए अकूत संपत्ति अर्जित करने का आरोप लगा था. बिहार निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने इनके विरुद्ध 2.60 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी बनाने को लेकर पहले ही केस दर्ज कर रखा है. अब ED भी इनपर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. अच्छा।्तन आदेशालय ने सेंथिल कुमार के खिलाफ मनीलॉन्ड्रिंग का केस चलाने अन्य संपत्तियों के पूर्ण आधिपत्य। का आरोप पत्र सौंप दिया है. बताते चलें की ED पहले ही सेंथिल कुमार की पटना अन्य तमिलनाडु में स्थित 2.60 करोड़ की संपत्ति जब्त कर चुकी है. ईडी ने सेंथिल कुमार के अलावा पटना नगर निगम के तत्कालीन अपर नगर जीवनकाल।क्त वैद्यनाथ दास, सेंथिल कुमार के छोटे भाई के. अय्यप्पन अन्य बिमल कुमार के खिलाफ भी चार्जशीट दायर की है.

निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की ओर से चार्जशीट दायर कर चुकी है. इसको प्रश्रय बनाकर ED ने मनीलॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी. जांच के दौरान पाया गया कि सेंथिल कुमार जब मुंगेर के डीएम थे, उसी वक्त से उन्होंने भ्रष्टाचार के जरिए अकूत संपत्ति बनाई. अब ED ने इनकी कुर्क की गई चल अन्य संपत्तियों की जब्ती के लिए अभियोजन शिकायत दर्ज कराई है. ED ने के. सेंथिल कुमार, वैद्यनाथ दास, के. अय्यप्पन अन्य बिमल कुमार के खिलाफ विभिन्‍न मामलों में केस दर्ज किया है. पीएमएलए के तहत जांच के दौरान यह पता चला है कि के. सेंथिल कुमार ने मुंगेर के जिलाधिकारी अन्य पटना नगर निगम के जीवनकाल।क्त के रूप में अपने कार्यकाल से ही भ्रष्ट तरीकों से संपत्ति अर्जित की थी. उन्होंने पटना में मेसर्स सुधा सुपर मार्केट अन्य मेसर्स चेन्नई कैफे जैसी फर्मों अन्य तमिलनाडु में इंदिरा मेमोरियल एजुकेशनल ट्रस्ट के पारिवारिक ट्रस्ट के माध्यम से अपनी अवैध संपत्ति का शोधन किया.

ईडी को ठेकेदार बिमल कुमार द्वारा कंपनियों के पक्ष में बड़ी मात्रा में भुगतान करने के सबूत मिले हैं. बताया जाता है कि बिमल कुमार आईएएस के. सेंथिल कुमार से भली-भांति परिचित थे. वह अपना पैसा बिमल कुमार के पास लगाते थे अन्य जिसके लिए बिमल कुमार को बड़े सरकारी ठेके दिए गए थे. के. सेंथिल कुमार ने परिवार के सदस्यों के नाम पर ट्रस्ट भी बना रखा था. सेंथिल द्वारा अर्जित आय को छिपाने के लिए आईटीआरएस में हेरफेर करने के आरोप की जांच भी चल रही है.

Tags: Bihar News, Patna News Update

original post link

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments