HomeMP NewsJabalpur Hospital Fire: न्यू लाइफ हॉस्पिटल का डायरेक्टर डॉ. संतोष गिरफ्तार, तीन...

Jabalpur Hospital Fire: न्यू लाइफ हॉस्पिटल का डायरेक्टर डॉ. संतोष गिरफ्तार, तीन पार्टनर अब भी फरार

- Advertisement -
- Advertisement -

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

मध्यप्रदेश के जबलपुर में सोमवार दोपहर शिवनगर स्थित न्यू लाइफ मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में अग्नि लगने से आठ की मौत हो गई थी। पुलिस ने अस्पताल के डायरेक्टर डॉक्टर संतोष को उमरिया से गिरफतार कर लिया है। अस्पताल के तीन भिन्न डायरेक्टर डॉक्टरों की तलाश जारी है।

पुलिस अधीक्षक सिध्दार्थ बहुगुणा ने बताया कि न्यू लाइफ मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल ने मार्च 21 में प्रोवि फायर एनओसी ली थी। इसकी वैधता मार्च 2022 में समाप्त हो गई थी। प्रोविजनल फायर एनओसी में स्वीकृत फायर प्लान के अनुसार अस्पलात में पर्याप्त शामक यंत्र नहीं थे। इमरजेंसी स्थिति में बाहर निकलने के रास्ते भी चिह्नित नहीं किए थे। इलेक्ट्रिकल सेफ्टी संबंधी आडिट भी नहीं कराया गया था। अस्पताल में इमरजेंसी की स्थिति में कोई निर्गम मार्ग भी नहीं था। पुलिस ने अस्पताल संचालक डॉ. निशित गुप्ता, डॉ. सुरेश पटेल, डॉ. संजय पटेल, डॉ. संतोष सोनी एवं सहायक मैनेजर राम सोनी के विरुद्ध धारा 304, 308, 34 के तहत प्रकरण दर्ज किया था।

पुलिस ने सहायक मैनेजर को पूर्व में गिरफतार कर लिया था तथा भिन्न आरोपियों की तलाष जारी थी। पुलिस ने डॉ संतोष सोनी को उमरिया से गिरफतार किया है। वे अस्पताल में 25 प्रतिशत के पार्टनर हैं तथा भिन्न अरोपियों की तलाश में दबिश जारी है। उन्हें शीघ्र ही गिरफतार कर लिया जाएगा।

विस्तार

मध्यप्रदेश के जबलपुर में सोमवार दोपहर शिवनगर स्थित न्यू लाइफ मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में अग्नि लगने से आठ की मौत हो गई थी। पुलिस ने अस्पताल के डायरेक्टर डॉक्टर संतोष को उमरिया से गिरफतार कर लिया है। अस्पताल के तीन भिन्न डायरेक्टर डॉक्टरों की तलाश जारी है।

पुलिस अधीक्षक सिध्दार्थ बहुगुणा ने बताया कि न्यू लाइफ मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल ने मार्च 21 में प्रोवि फायर एनओसी ली थी। इसकी वैधता मार्च 2022 में समाप्त हो गई थी। प्रोविजनल फायर एनओसी में स्वीकृत फायर प्लान के अनुसार अस्पलात में पर्याप्त शामक यंत्र नहीं थे। इमरजेंसी स्थिति में बाहर निकलने के रास्ते भी चिह्नित नहीं किए थे। इलेक्ट्रिकल सेफ्टी संबंधी आडिट भी नहीं कराया गया था। अस्पताल में इमरजेंसी की स्थिति में कोई निर्गम मार्ग भी नहीं था। पुलिस ने अस्पताल संचालक डॉ. निशित गुप्ता, डॉ. सुरेश पटेल, डॉ. संजय पटेल, डॉ. संतोष सोनी एवं सहायक मैनेजर राम सोनी के विरुद्ध धारा 304, 308, 34 के तहत प्रकरण दर्ज किया था।

पुलिस ने सहायक मैनेजर को पूर्व में गिरफतार कर लिया था तथा भिन्न आरोपियों की तलाष जारी थी। पुलिस ने डॉ संतोष सोनी को उमरिया से गिरफतार किया है। वे अस्पताल में 25 प्रतिशत के पार्टनर हैं तथा भिन्न अरोपियों की तलाश में दबिश जारी है। उन्हें शीघ्र ही गिरफतार कर लिया जाएगा।

original post link

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments