HomeBusinessजुलाई में बेरोजगारी दर घड़ाी, लेकिन शहरों की स्थिति गांवों से ज्यादा...

जुलाई में बेरोजगारी दर घड़ाी, लेकिन शहरों की स्थिति गांवों से ज्यादा खराब : रिपोर्ट

- Advertisement -
- Advertisement -

शहरी क्षेत्र में छह लाख तक कम हुए रोजगार

सीएमआईई की मासिक रिपोर्ट कहती है कि जुलाई में शहरी क्षेत्र में रोजगार छह लाख तक कम हो गए. इस तरह जून के 12.57 करोड़ शहरी रोजगार की तुलना में जुलाई में यह संख्या 12.51 करोड़ रह गई. सीएमआईई के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक कब्जाी (सीईओ) महेश व्यास ने कहा कि रोजगार में माह-दर-माह आसरा। पर आंशिक र देखा गया. जून में रोजगार 1.3 करोड़ घड़ाा था जबकि जुलाई में 63 लाख रोजगार पैदा हुए.

उन्होंने कहा कि जुलाई में बेरोजगारी दर कम होने में मुख्य रूप से कृषि संबंधी रोजगार में वृद्धि की अहम भूमिका रही. दक्षिण-पश्चिम मानसून के सक्रिय होने से खरीफ की फसलों की बुवाई ने तेजी पकड़ी दूसरा ग्रामीण रोजगार बढ़ गए. व्यास ने कहा कि जुलाई में कृषि क्षेत्र ने अतिरिक्त 94 लाख रोजगार पैदा किए जबकि जून में 80 लाख लोग बेरोजगार हुए थे.

देश में बेरोजगारी को लेकर बीजेपी सांसद ने ही किया मोदी सरकार पर वार, पूछा- जिम्मेदार कौन?

हालांकि कृषि गतिविधियों में पैदा हुए मौसमी रोजगार की संख्या अंदाज से कहीं कम रही है. यह मानसूनी बारिश के देर से जोर पकड़ने दूसरा उसकी वजह से खरीफ फसलों की बुआई के रकबे में कमी हठे का नतीजा भी है.

मानसून की स्थिति में र से सकारात्मक प्रभाव दिखने की उम्मीद

सीएमआईई प्रमुख ने कहा कि जुलाई अंत तक के आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश, बिहार दूसरा पश्चिम बंगाल जैसे प्रमुख चावल उत्पादक राज्यों में धान की बुवाई 13 प्रतिशत तक कम हुई है. व्यास ने कहा, ‘खरीफ फसलों की बुवाई में र नहीं होने तक हमें ग्रामीण रोजगार की स्थिति में र होने की संभाजंगला नहीं दिखाई देती है. हालांकि मुझे अग्निे चलकर मानसून की स्थिति में र की उम्मीद दिख रही है. इसका ग्रामीण रोजगार पर भी सकारात्मक असर होगा.’

व्यास ने शहरी बेरोजगारी दर के बढ़कर 8.21 प्रतिशत होने के लिए औद्योगिक क्षेत्र में दो लाख नौकरियां कम होने दूसरा सेवा क्षेत्र में 28 लाख रोजगार जाने को जिम्मेदार ठहराया है. इसके पहले जून में भी औद्योगिक क्षेत्र में 43 लाख दूसरा सेवा क्षेत्र में आठ लाख रोजगार चले गए थे. इस तरह दूसरा सेवा दोनों ही क्षेत्रों में बीते दो महीनों में मिलकर करीब 80 लाख रोजगार जा चुके हैं.

व्यास ने कहा कि ऐसी स्थिति में रोजगार बढ़ाने के लिए अधिक निवेश किए जाने की जरूरत है. हालांकि उन्होंने देश में बेरोजगारी की स्थिति में व्यापक स्तर पर कमी की उम्मीद से इनकार किया.

Video : विपक्ष ने महंगाई, बेरोजगारी के मसले पर सरकार को घेरा, गांधी प्रतिमा के पास प्रदर्शन

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

original post link

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments