HomeMP Newsछत्तीसगढ़ी म पढ़व- फेर े दिन बादर खेती-ी के

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- फेर े दिन बादर खेती-ी के

- Advertisement -
- Advertisement -

गरमी के मारे जीव बियाकुल. अब जीना हे तब कइसनो करके जीव ला तो बचाय ले परथे. लू मं कतको लेसागे चर-चर ले कीरा-मकोरा बरोबर. कोन देखइया, कोन सुनइया. अइसन पदनीपाद पदोय हे एसो के गरमी, जमराज बनके धरती म उतरगे रिहिसे. जतका ला रपोटत, सइथत अउ बटोरत बनिस कोरोना बरोबर तइसन उहू ह करिस.

भला होउम्र इंद्र देवता के, जउन लेसावत मनखे ला पानी के बरसा करवाके ओकर मन के परान ला बचाइस. अब जब ओहर बरसा शुरू होइस तब मन के करम जाग गे. बारिश होथे तहां ले खेती-ी के दिन आ जथे. मन खेती-बारी कोती झांके-ताके ले शुरू करथे. नांगर, बइला, खातू-माटी सब के हियाव करना शुरू करथे. कांटा-खूंटी बिनना शुरू कर देथे. अइसन नइ करही, नइ चतवारही तब नांगर जोते के बेरा पांव मं कांटा-खूंटी गड़े के भारी डर रहिथे. बहुत जियानथे, कहूं पांव मं कांटा गोभा जथे तब. खेती के रकम, ओकर सुख-दुख ला े हर जानही. कउन किसम ले अनाज उपजारथे तउन ला. महतारी मन जइसे दरत उही मन सरेख (समझ) सकथे. सही केहे हे सियान मन जउन हाना बनाय हे ”बांझ का जानय प्रसव के पीरा”. मन के छोड़े कोनो दूसर नइ जान सकय ये मरम ला. चटखार के गोठियइया तो बहुत हे. ओकर मन के दरद न जानय कोय?

कोठी के धान ला उलद के खेती मं अइसे छींचत हे, जइसे ओ बीज के बइरी होगे हे. कोनो अपन पूंजी, धान ला अइसने उदाबादी असन फेंकही? नइ फेंकय, अतेक निरमोही नइहे मन, कतेक बड़े जुआरी हे मन जउन कोठी के धान ला खेत मं अइसे दांव मं लगा देथे जइसे जुआ खेलइया मन रुपिया ल फड़ मं फेंक देथे. जना-मना खेती-मेती मं रद्दा चलत पागे हे. नहीं- एकर पीछे ओकर मन के भाजंगला रहिथे के तियाग करबो तब दस रुपिया के हजार मिलही. वइसने कस मन घला भारी तियाग करथे. धान बोथे, निंदई-कोड़ई करथे, कोपर चलाथे, बियासी करथे. नानचिन लइका मन सही धान के पौधा जब बाढ़त जाथे तब दिन-रात हियाव करत रहिथे. टॉनिक बरोबर खातू-माटी अउ कीटनाशक दवा मन के बेरा-बखत मं छिड़काव करत रहिथे.

धान तो पानी के बोजा हे, बिना पानी बिगन तो ओकर कोनो बुता बनय नहीं. बोआई करे के पहिली पानी, बियासी करना हे तब पानी, बियासी के बाद खेत सुखाउम्र झन, तभो पानी अउ जब पौधा पोटरियाय ले धर लेथे तभो पानी. बिन पानी सब सून हे खेती-ी. कुंआर के महीना मं कभू-कभू एके पानी बर धपोर देथे. मन हा आकास कोती टकटकी लगा के संझा-बिहनिया देखत रहिथे. ा उठथे, करिया-सफेद बादर एती ले ओती आवत-जात रहिथे. कभू-कभू अइसे लगथे के अब-तब गिर जाही का, फेर कहां बरसना हे. टूरी मन बिजरा के जइसे टूरा मन ला गच्चा दे देथे, ले चल मैं आवत हौं कहिके तइसने कस वो करिया बादर मन ला घला ललचा देथे फेर गिरय नहीं, अउ इही एक पानी के सेती ओकर सारी कमई निसफल हो जथे. जेकर मन करा बोर के साधन हे, न अपासी के सुविधा हे, तउन मन तो मजा मार देथे, दुल्हा डउका मन असन. अउ जेकर करा अइसन कोनो साधन नइहे तउन लुलुवाहत वइसने रहिथे जइसे किसन कन्हैया के माखन रोटी ला कउंआ छीन के ले जथे. कउंआ मजा मारत रहिथे अउ कन्हैया रोवत रहि जथे. मन के रोये के भाग लिखे हे.

खेती-ी मं आफत-आफत होथे. सियान मन हाना गढ़े हे- ”ठाढ़े खेती, गाभिन गाय तब जानव जब मुंह मं जाय” ओहर सिरतोन तो आय. फसल के रक्छा करे खातिर मवेशी मन के बारी सकला-जतन करे ले परथे, रोका-छेका नइ करबे तब फसल बचबे नइ करय. आजकल हरहा गरुआ अइसे ढिल्ला सांड सही किंजरत रहिथे, आवारा मन सही के बाते झन पूछ. कुछ मन घला लापरवाही करथे. अपन काम सर जथे तहां ले मवेशी मन ला ढिल्ला चरे बर दूसर के खेत कोती छोड़ देथे. अइसन नइ करना चाही, फेर हेकराहा मन संग कोन मुंह लगही. इही-पाके गरवा मन ले फसल ला बचाय खातिर ”रोका-छेका” के बेवस्था करे जाथे. गांव मं मुनादी कराके मवेशी वाले मन ला इत्तला कर दे जाथे. अपन-अपन मवेशी ला सकला-जतन कर के रखिहौ, ढिल्ला झन छोडि़हौ. अउ जउन अइसन करही तेकर बर दंड के घलो बेवस्था करे जाथे. छत्तीसगढ़ सरकार घला इही बात ला दियान मं रखके मवेशी मन के ”रोका-छेका” करे के सलाह दे हे.

(परमानंद वर्मा छत्तीसगढ़ी के जानकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Articles in Chhattisgarhi, Chhattisgarhi, Chhattisgarhi Articles

original post link

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

  1. I’m amazed, I must say. Rarely do I come across a
    blokg that’s equally educative and entertaining, and let me tell you, you have hit the nail on the head.The problem
    is something that not enough folks are speaking
    intelligently about. Noww i’m very happy that I
    came across this in my search for somethiing regarding this.

    Also visit my web-site Pornhub

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments